Albert Einstein in Hindi

जीवन एक साईकिल

जीवन एक साईकिल चलाने की तरह है| आपको संतुलन बनाने के लिए आगे बढ़ते रहना होता है |
– Albert Einstein

Comments Off on जीवन एक साईकिल

महत्वपूर्ण गुण है

अपने छात्रों में सृजनात्मक भाव और ज्ञान का आनंद जगाना ही एक शिक्षक का सबसे महत्वपूर्ण गुण है.
– Albert Einstein

Comments Off on महत्वपूर्ण गुण है

साईकिल चलाने की तरह है

जीवन एक साईकिल चलाने की तरह है| आपको संतुलन बनाने के लिए आगे बढ़ते रहना होता है |
– Albert Einstein

Comments Off on साईकिल चलाने की तरह है

प्रतिभा भगवान् की देन है

प्रतिभा भगवान् की देन है, विनम्र रहिये. ख्याति मानव निर्मित है कृतज्ञ रहिये. घमंड आपकी अपनी देन है, चौकस रहिये.
– Albert Einstein

Comments Off on प्रतिभा भगवान् की देन है

प्रतिभा और मूर्खता के बीच अंतर है

प्रतिभा और मूर्खता के बीच अंतर है; प्रतिभा की अपनी सीमा होती है.
– Albert Einstein

Comments Off on प्रतिभा और मूर्खता के बीच अंतर है

मानसिकता के साथ नहीं

हम अपनी समस्या उस मानसिकता के साथ नहीं सुलझा सकते जो हमने उस समस्या को खड़ा करते समय इस्तेमाल की थी
– Albert Einstein

Comments Off on मानसिकता के साथ नहीं

आपको खेल के नियम सीखने होंगे

आपको खेल के नियम सीखने होंगे और फिर आपको किसी भी और से अच्छा खेलना होगा
– Albert Einstein

Comments Off on आपको खेल के नियम सीखने होंगे

कल्पनाशीलता है

बुद्धि का सही संकेत ज्ञान नहीं बल्कि कल्पनाशीलता है.
– Albert Einstein

Comments Off on कल्पनाशीलता है

भरोसा नहीं किया जा सकता

जो व्यक्ति छोटे मसलों में सत्य को गंभीरता से नहीं लेता, उस पर बड़े मसलों में भी भरोसा नहीं किया जा सकता.
– Albert Einstein

Comments Off on भरोसा नहीं किया जा सकता

इंसान को यह देखना चाहिए

इंसान को यह देखना चाहिए कि क्या है, यह नहीं कि उसके अनुसार क्या होना चाहिए.
– Albert Einstein

Comments Off on इंसान को यह देखना चाहिए

यदि मानवता को जीवित रखना है

यदि मानवता को जीवित रखना है तो हमें बिलकुल नयी सोच की आवश्यकता होगी.
– Albert Einstein

Comments Off on यदि मानवता को जीवित रखना है

कोशिश नहीं की

एक व्यक्ति जिसने कभी एक भी गलती नहीं किया अर्थात् उसने कभी भी कुछ भी नया करने की कोशिश नहीं की.
– Albert Einstein

Comments Off on कोशिश नहीं की

दो चीजें अनंत हैं

दो चीजें अनंत हैं: ब्रह्माण्ड और मनुष्य कि मूर्खता; और मैं ब्रह्माण्ड के बारे में दृढ़ता से नहीं कह सकता.
– Albert Einstein

Comments Off on दो चीजें अनंत हैं

वह उत्पन्न हुई है

कोई भी समस्या चेतना के उसी स्तर पर रह कर नहीं हल की जा सकती है जिसपर वह उत्पन्न हुई है.
– Albert Einstein

Comments Off on वह उत्पन्न हुई है

बुद्धिमान हैं

इश्वर के सामने हम सभी एक बराबर ही बुद्धिमान हैं-और एक बराबर ही मूर्ख भी.
– Albert Einstein

Comments Off on बुद्धिमान हैं

भरोसा नहीं किया जा सकता

जो छोटी-छोटी बातों में सच को गंभीरता से नहीं लेता है , उस पर बड़े मसलों में भी भरोसा नहीं किया जा सकता.
– Albert Einstein

Comments Off on भरोसा नहीं किया जा सकता

बिलकुल नयी सोच

यदि मानव जातो को जीवित रखना है तो हमें बिलकुल नयी सोच की आवश्यकता होगी.
– Albert Einstein

Comments Off on बिलकुल नयी सोच

बसता है

क्रोध मूर्खों की छाती में ही बसता है.
– Albert Einstein

Comments Off on बसता है

यह देखना चाहिए

इन्सान को यह देखना चाहिए कि क्या है, यह नहीं कि उसके अनुसार क्या होना चाहिए.
– Albert Einstein

Comments Off on यह देखना चाहिए

विज्ञान के बिना धर्म अंधा है

धर्म के बिना विज्ञान लंगड़ा है, विज्ञान के बिना धर्म अंधा है।
– Albert Einstein

Comments Off on विज्ञान के बिना धर्म अंधा है
Page 1 of 41234