Premchand in Hindi

भाग्य पर वह भरोसा करता है

भाग्य पर वह भरोसा करता है, जिसमें पौरुष नहीं होता।
– Premchand

Comments Off on भाग्य पर वह भरोसा करता है

खाने और सोने

खाने और सोने का समय जीवन नहीं है, जीवन नाम है सदेव आगे बढ़ने की लगन का नाम है।
– Premchand

Comments Off on खाने और सोने

शक्ति अपने आप ही आजाती है

जब हम कोई काम करने की इच्छा करते हैं तो शक्ति अपने आप ही आजाती है।
– Premchand

Comments Off on शक्ति अपने आप ही आजाती है

नम्रता

नम्रता पत्थर को भी माँ कर देती है |
– Premchand

Comments Off on नम्रता

खाने और सोने का नाम

खाने और सोने का नाम जीवन नहीं। जीवन नाम है सदैव आगे बढ़ने का।
– Premchand

Comments Off on खाने और सोने का नाम

माँ कर देती है

नम्रता पत्थर को भी माँ कर देती है |
– Premchand

Comments Off on माँ कर देती है

मतभेद होना स्वाभाविक है

मतभेद होना स्वाभाविक है, लेकिन जिन से मतभेद हो, उन्हें नीच न समझें। जिसे आप नीचा समझेंगे, वह भी आपकी पूजा नहीं करेगा।
– Premchand

Comments Off on मतभेद होना स्वाभाविक है

ऐसा आदर्श है

कर्तव्य ही ऐसा आदर्श है, जो कभी धोखा नहीं दे सकता |
– Premchand

Comments Off on ऐसा आदर्श है

दाँत से पकड़ता है

पैसेवाले पैसे की कदर क्या जानें ? पैसे की कदर तब होती है, जब हाथ खाली हो जाता है | तब आदमी एक-एक कौड़ी दाँत से पकड़ता है |
– Premchand

Comments Off on दाँत से पकड़ता है

याद आती है

आकाश में उड़ने वाले पंछी को भी अपने घर की याद आती है।
– Premchand

Comments Off on याद आती है

चापलूसी का ज़हरीला प्याला

चापलूसी का ज़हरीला प्याला आपको तब तक नुकसान नहीं पहुँचा सकता जब तक कि आपके कान उसे अमृत समझ कर पी न जाएँ।
– Premchand

Comments Off on चापलूसी का ज़हरीला प्याला

अधिक आकर्षित होते हैं

महान व्यक्ति महत्वाकांक्षा के प्रेम से बहुत अधिक आकर्षित होते हैं।
– Premchand

Comments Off on अधिक आकर्षित होते हैं

मन एक भीरु शत्रु है

मन एक भीरु शत्रु है जो सदैव पीठ के पीछे से वार करता है।
– Premchand

Comments Off on मन एक भीरु शत्रु है

कुल की प्रतिष्ठा

कुल की प्रतिष्ठा भी विनम्रता और सदव्यवहार से होती है, हेकड़ी और रुआब दिखाने से नहीं।
– Premchand

Comments Off on कुल की प्रतिष्ठा

स्वाभाविक गुण है

दया मनुष्य का स्वाभाविक गुण है।
– Premchand

Comments Off on स्वाभाविक गुण है

प्रेम का नाता

प्रेम का नाता संसार के सभी संबंधो से पवित्र और श्रेष्ठ है।
– Premchand

Comments Off on प्रेम का नाता

वह है सेवा

प्रेम का एक ही मूलमंत्र है और वह है सेवा।
– Premchand

Comments Off on वह है सेवा

प्रेम असीम विश्वास है

प्रेम असीम विश्वास है, असीम धैर्य है और असीम बल है।
– Premchand

Comments Off on प्रेम असीम विश्वास है

खाने और सोने का नाम जीवन नहीं

खाने और सोने का नाम जीवन नहीं। जीवन नाम है सदैव आगे बढ़ने का।
– Premchand

Comments Off on खाने और सोने का नाम जीवन नहीं

ह्रदय को ज्यादा दुखाता है

क्रोध में मनुष्य अपने मन की बात कहने के बजाय दूसरों के ह्रदय को ज्यादा दुखाता है।
– Premchand

Comments Off on ह्रदय को ज्यादा दुखाता है
Page 1 of 3123