Rabindranath Tagore in Hindi

बाहर बंद हो जाएगा

यदि आप सभी त्रुटियों के लिए दरवाजा बंद कर दोगे तो सच अपने आप बाहर बंद हो जाएगा.
– Rabindranath Tagore

Comments Off on बाहर बंद हो जाएगा

सब कुछ हमें मिलता है

सब कुछ हमें मिलता है जो हमसे संबंधित है .अगर हमारे अन्दर उसे प्राप्त करने की क्षमता है.
– Rabindranath Tagore

Comments Off on सब कुछ हमें मिलता है

संदेश के साथ आता है

हर बच्चा एक संदेश के साथ आता है की भगवान आदमी को अभी तक हतोत्साहित नहीं किया है.
– Rabindranath Tagore

Comments Off on संदेश के साथ आता है

मत बोलो

मत बोलो, ‘यह सुबह है,’ और इसे कल के नाम के साथ खारिज मत करो. इसे एक newborn child की तरह देखो जिसका अभी कोई नाम नहीं है.
– Rabindranath Tagore

Comments Off on मत बोलो

दोस्ती की गहराई

दोस्ती की गहराई परिचित की लंबाई पर निर्भर नहीं करती |
– Rabindranath Tagore

Comments Off on दोस्ती की गहराई

अनंत भरता है

संगीत दो आत्माओं के बीच अनंत भरता है.
– Rabindranath Tagore

Comments Off on अनंत भरता है

तथ्य कई हैं

तथ्य कई हैं, लेकिन सच एक ही है.
– Rabindranath Tagore

Comments Off on तथ्य कई हैं

खुश रहना बहुत सरल है

खुश रहना बहुत सरल है…लेकिन सरल होना बहुत मुश्किल है.
– Rabindranath Tagore

Comments Off on खुश रहना बहुत सरल है

यदि आप रोते हो

यदि आप रोते हो क्योंकि सूरज आपके जीवन से बाहर चला गया है और आपके आँसू आपको सितारों को देखने के लिए रोकेंगे ..
– Rabindranath Tagore

Comments Off on यदि आप रोते हो

क्षमा करना है

बसे उत्तम बदला क्षमा करना है.
– Rabindranath Tagore

Comments Off on क्षमा करना है

सबसे उत्तम बदला

सबसे उत्तम बदला क्षमा करना है.
– Rabindranath Tagore

Comments Off on सबसे उत्तम बदला

पीड़ा होती है

मन का धर्म है मनन करना, मनन में ही उसे आनंद है, मनन में बाधा प्राप्त होने से उसे पीड़ा होती है |
– Rabindranath Tagore

Comments Off on पीड़ा होती है

मन का धर्म है

मन का धर्म है मनन करना, मनन में ही उसे आनंद है, मनन में बाधा प्राप्त होने से उसे पीड़ा होती है |
– Rabindranath Tagore

Comments Off on मन का धर्म है

क्रोध अधिक आता है

जो मन की पीड़ा को स्पष्ट रूप में कह नहीं सकता, उसी को क्रोध अधिक आता है |
– Rabindranath Tagore

Comments Off on क्रोध अधिक आता है

कर्तव्य माना जाता है

कुछ न कुछ कर बैठने को ही कर्तव्य नहीं कहा जा सकता | कोई समय ऐसा भी होता है, जब कुछ न करना ही सबसे बड़ा कर्तव्य माना जाता है |
– Rabindranath Tagore

Comments Off on कर्तव्य माना जाता है

साम्राज्यों से ऊब उठता है

ईश्वर बड़े-बड़े साम्राज्यों से ऊब उठता है लेकिन छोटे-छोटे पुष्पों से कभी खिन्न नहीं होता।
– Rabindranath Tagore

Comments Off on साम्राज्यों से ऊब उठता है

वाणी को आश्रय देता है

जिस तरह घोंसला सोती हुई चिड़िया को आश्रय देता है उसी तरह मौन तुम्हारी वाणी को आश्रय देता है।
– Rabindranath Tagore

Comments Off on वाणी को आश्रय देता है

निर्माण के कारख़ाने हैं

विश्वविद्यालय महापुरुषों के निर्माण के कारख़ाने हैं और अध्यापक उन्हें बनाने वाले कारीगर हैं।
– Rabindranath Tagore

Comments Off on निर्माण के कारख़ाने हैं

समय परिवर्तन का धन है

समय परिवर्तन का धन है। परंतु घड़ी उसे केवल परिवर्तन के रूप में दिखाती है, धन के रूप में नहीं।
– Rabindranath Tagore

Comments Off on समय परिवर्तन का धन है

निरंतर खिलते रहेंगे

फूल चुन कर एकत्र करने के लिए मत ठहरो। आगे बढ़े चलो, तुम्हारे पथ में फूल निरंतर खिलते रहेंगे।
– Rabindranath Tagore

Comments Off on निरंतर खिलते रहेंगे
Page 1 of 212