Sarvepalli Radhakrishnan in Hindi

मानव का दानव होना

मानव का दानव होना उसकी हार है | मानव का महामानव होना उसका चमत्कार है और मनुष्य का मानव होना उसकी जीत है |
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on मानव का दानव होना

उसकी हार है

मानव का दानव होना उसकी हार है | मानव का महामानव होना उसका चमत्कार है और मनुष्य का मानव होना उसकी जीत है |
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on उसकी हार है

जीवन का सपना है

जीवन का सबसे बड़ा उपहार एक उच्च जीवन का सपना है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on जीवन का सपना है

ञान हमें शक्ति देता है

ञान हमें शक्ति देता है, प्रेम हमें परिपूर्णता देता है. ……
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on ञान हमें शक्ति देता है

बदलाव से आ सकती है

शांति राजनीतिक या आर्थिक बदलाव से नहीं आ सकते बल्कि मानवीय स्वभाव में बदलाव से आ सकती है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on बदलाव से आ सकती है

मौत कभी अंत या बाधा नहीं है

मौत कभी अंत या बाधा नहीं है बल्कि अधिक से अधिक नए कदमो की शुरुआत है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on मौत कभी अंत या बाधा नहीं है

हर्ष और आनंद

हर्ष और आनंद से परिपूर्ण जीवन केवल ज्ञान और विज्ञान के आधार पर संभव है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on हर्ष और आनंद

मानना महज कृतध्नता है

जीवन को बुराई की तरह देखता और दुनिया को एक भ्रम मानना महज कृतध्नता है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on मानना महज कृतध्नता है

शक्ति और दक्षता

धन, शक्ति और दक्षता केवल जीवन के साधन हैं खुद जीवन नहीं.
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on शक्ति और दक्षता

महानता प्राप्त करने की भी ज़रुरत है

मनुष्य को सिर्फ तकनीकी दक्षता नही बल्कि आत्मा की महानता प्राप्त करने की भी ज़रुरत है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on महानता प्राप्त करने की भी ज़रुरत है

मूल रूप से अच्छा है

मानवीय स्वाभाव मूल रूप से अच्छा है, और आत्मज्ञान का प्रयास सभी बुराईयों को ख़त्म कर देगा.
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on मूल रूप से अच्छा है

आध्यात्मक जीवन

आध्यात्मक जीवन भारत की प्रतिभा है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on आध्यात्मक जीवन

बुद्धिमान नहीं हो सकता

कोई भी जो स्वयं को सांसारिक गतिविधियों से दूर रखता है और इसके संकटों के प्रति असंवेदनशील है वास्तव में बुद्धिमान नहीं हो सकता.
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on बुद्धिमान नहीं हो सकता

मानवीय जीवन

मानवीय जीवन जैसा हम जीते हैं वो महज हम जैसा जीवन जी सकते हैं उसक कच्चा रूप है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on मानवीय जीवन

राष्ट्र

राष्ट्र, लोगों की तरह सिर्फ जो हांसिल किया उससे नहीं बल्कि जो छोड़ा उससे भी निर्मित होते हैं.
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on राष्ट्र

धर्म भय पर विजय है

धर्म भय पर विजय है; असफलता और मौत का मारक है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on धर्म भय पर विजय है

यदि मानव दानव बन जाता है

यदि मानव दानव बन जाता है तो ये उसकी हार है , यदि मानव महामानव बन जाता है तो ये उसका चमत्कार है .यदि मनुष्य मानव बन जाता है तो ये उसके जीत है .
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on यदि मानव दानव बन जाता है

घोड़े की तरह है

कहते हैं कि धर्म के बिना इंसान लगाम के बिना घोड़े की तरह है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on घोड़े की तरह है

कोई जगह नहीं है

कवी के धर्म में किसी निश्चित सिद्धांत के लिए कोई जगह नहीं है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on कोई जगह नहीं है

सच्ची ख़ुशी देता है

किताब पढना हमें एकांत में विचार करने की आदत और सच्ची ख़ुशी देता है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

Comments Off on सच्ची ख़ुशी देता है
Page 1 of 212