Sarvepalli Radhakrishnan in Hindi

मानव का दानव होना

मानव का दानव होना उसकी हार है | मानव का महामानव होना उसका चमत्कार है और मनुष्य का मानव होना उसकी जीत है |
– Sarvepalli Radhakrishnan

उसकी हार है

मानव का दानव होना उसकी हार है | मानव का महामानव होना उसका चमत्कार है और मनुष्य का मानव होना उसकी जीत है |
– Sarvepalli Radhakrishnan

जीवन का सपना है

जीवन का सबसे बड़ा उपहार एक उच्च जीवन का सपना है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

ञान हमें शक्ति देता है

ञान हमें शक्ति देता है, प्रेम हमें परिपूर्णता देता है. ……
– Sarvepalli Radhakrishnan

बदलाव से आ सकती है

शांति राजनीतिक या आर्थिक बदलाव से नहीं आ सकते बल्कि मानवीय स्वभाव में बदलाव से आ सकती है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

मौत कभी अंत या बाधा नहीं है

मौत कभी अंत या बाधा नहीं है बल्कि अधिक से अधिक नए कदमो की शुरुआत है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

हर्ष और आनंद

हर्ष और आनंद से परिपूर्ण जीवन केवल ज्ञान और विज्ञान के आधार पर संभव है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

मानना महज कृतध्नता है

जीवन को बुराई की तरह देखता और दुनिया को एक भ्रम मानना महज कृतध्नता है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

शक्ति और दक्षता

धन, शक्ति और दक्षता केवल जीवन के साधन हैं खुद जीवन नहीं.
– Sarvepalli Radhakrishnan

महानता प्राप्त करने की भी ज़रुरत है

मनुष्य को सिर्फ तकनीकी दक्षता नही बल्कि आत्मा की महानता प्राप्त करने की भी ज़रुरत है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

मूल रूप से अच्छा है

मानवीय स्वाभाव मूल रूप से अच्छा है, और आत्मज्ञान का प्रयास सभी बुराईयों को ख़त्म कर देगा.
– Sarvepalli Radhakrishnan

आध्यात्मक जीवन

आध्यात्मक जीवन भारत की प्रतिभा है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

बुद्धिमान नहीं हो सकता

कोई भी जो स्वयं को सांसारिक गतिविधियों से दूर रखता है और इसके संकटों के प्रति असंवेदनशील है वास्तव में बुद्धिमान नहीं हो सकता.
– Sarvepalli Radhakrishnan

मानवीय जीवन

मानवीय जीवन जैसा हम जीते हैं वो महज हम जैसा जीवन जी सकते हैं उसक कच्चा रूप है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

राष्ट्र

राष्ट्र, लोगों की तरह सिर्फ जो हांसिल किया उससे नहीं बल्कि जो छोड़ा उससे भी निर्मित होते हैं.
– Sarvepalli Radhakrishnan

धर्म भय पर विजय है

धर्म भय पर विजय है; असफलता और मौत का मारक है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

यदि मानव दानव बन जाता है

यदि मानव दानव बन जाता है तो ये उसकी हार है , यदि मानव महामानव बन जाता है तो ये उसका चमत्कार है .यदि मनुष्य मानव बन जाता है तो ये उसके जीत है .
– Sarvepalli Radhakrishnan

घोड़े की तरह है

कहते हैं कि धर्म के बिना इंसान लगाम के बिना घोड़े की तरह है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

कोई जगह नहीं है

कवी के धर्म में किसी निश्चित सिद्धांत के लिए कोई जगह नहीं है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

सच्ची ख़ुशी देता है

किताब पढना हमें एकांत में विचार करने की आदत और सच्ची ख़ुशी देता है.
– Sarvepalli Radhakrishnan

Page 1 of 212